गुरुवार, 30 दिसंबर 2010

विश्व हिंदी दिवस

हिंदी दिवस के संग विश्व हिंदी दिवस का मनाया जाना हमारे लिए आश्चर्यजनक हो सकता है। आश्चर्य शब्द का प्रयोग इसलिए किया जा रहा है कि हमारे भारत देश में अभी तक हिंदी राजभाषा के रूप में सरकारी कार्यालयों तक पैठी ही नहीं, उच्च शिक्षा के पाठ्यसामग्रियों में तथा कक्षाओं के विभिन्न सत्र में बैठी ही नहीं और चल पड़ी हिंदी विश्व की और, आखिर यह माज़रा क्या है। भारतीय भाषाओं के प्रति भारतीयों की सामान्य प्रतिक्रिया कुछ ऐसी ही होती है और भाषाएं लहरों की तरह अपनी मंज़िलें तय करती रहती हैं अथक, अनवरत और असीमित। यदि भारतीय विश्व में अपनी उपस्थिति दर्ज़ कर रहे हैं तब उनकी भाषा को विश्व में दर्ज़ करने को कब तक टाला जा सकता है। हिंदी की भी यही स्थिति है। कहीं बोलचाल के रूप में, कहीं गीत-संगीत में ढली हुई, कहीं तीज-त्यौहार में उमंगमयी तो कहीं भक्ति-दर्शन आदि अनेक रूपों में हिंदी विश्व में पाई जा रही है। हिंदी के इस विस्तार के बारे में कितने भारतीय परिचित हैं यह कहना कठिन है किंतु यह कहा जा सकता है कि हिंदी के विस्तार के बारे में अनभिज्ञता बनी हुई है जो हिंदी के साथ-साथ राजभाषा के लिए हितकर नहीं कहा जा सकता है। वर्तमान युग में भाषा के वर्चस्वता की प्रतियोगितापूर्ण दौड़ में यदि विश्व हिंदी दिवस का आयोजन न किया जाए तो हम अपनी भाषिक शक्ति का न तो प्रदर्शन कर पाएंगे और न ही विश्व में फैले हिंदी प्रेमियों को एक मंच ही प्रदान कर पाएंगे इसलिए विश्व हिंदी दिवस का आयोजन केवल एक आवश्यकता ही नहीं है बल्कि समय की मांग है।

समय की मांग के संग चलना सामान्यतया अत्यावश्यक होता है किंतु उस मांग की पूर्ति करना सामान्यतया एक कठिन चुनौती लगती है। चूंकि हिंदी विश्व में फैली हुई है इसलिए विश्व हिंदी दिवस के द्वारा हिंदी को सहज, सरल बनाते रहने के साथ-साथ इसके एकरूपता पर भी ध्यान देना आवश्यक है अन्यथा हिंदी भाषा में भटकाव आ सकता है। यह एक चुनैतीपूर्ण कार्य है। इसके अतिरिक्त विश्व हिंदी दिवस के आयोजन के द्वारा विश्व की भाषाएं मित्रवत हिंदी की तरफ बढ़ेंगी जिससे हिंदी का साहित्य भी समृद्ध होगा। भूमंडलीकरण के दौर में केवल कुछ राष्ट्रों तक सिमट कर रहने से व्यापक लाभ नहीं होगा बल्कि इसके लिए अधिकाधिक देशों में हिंदी का प्रचार-प्रसार होना चाहिए। प्रत्येक उन्नत और उन्नतिशील देश अपनी-अपनी भाषाओं के प्रसार के लिए पयत्नशील हैं तो तमाम खूबियोंवाली हिंदी के लिए विश्व में मुनादी से हिंदी को क्यों वंचित रखा जाए, आखिरकार विश्व में अनिवासी भारतीय के रूप में हिंदी के प्रतिनिधियों की सशक्त टीम भी तो है। विश्व हिंदी दिवस को हिंदी से जुड़े आयोजन विश्व में हिंदी की लोकप्रियता का संदेश देंगे तथा साथ ही यह भी दर्शाएंगे कि हिंदी भारतीयों के दिल की भाषा है। यदि इस प्रकार विश्व हिंदी दिवस संदेश देने में सफल हो जाता है तो हिंदी विश्वभाषा बनने की होड़ में अपनी प्रबल दावेदारी रख सकेगी।

विश्व हिंदी दिवस का उद्देश्य विश्व में हिंदी के प्रचार-प्रसार के लिए जागरूकता पैदा करना तथा हिंदी को अंतर्राष्ट्रीय भाषा के रूप में पेश करना है। इसी संकल्पना सहित 14 जनवरी 1975 से विश्व हिंदी सम्मेलन का आरम्भ हुआ जिसकी संख्या अब तक कुल आठ हो चुकी है जिसके देश मॉरिशस,नई दिल्ली,मॉरिशस,त्रिनिडाड व टोबैगो, लंदन, सूरीनाम और न्यूयार्क हैं। 14 जनवरी 1975 को नागपुर में आयोजित प्रथम विश्व हिंदी सम्मेलन में यह संकल्प पारित हुआ कि प्रतिवर्ष 10 जनवरी को विश्व हिंदी दिवस मनाया जाए। हिंदी दिवस जिस तरह सुपरिचित है वह स्थिति विश्व हिंदी दिवस की नहीं है। हिंदी से जुड़े सभी लोग जब तक अपने-अपने परिवेश में विश्व हिंदी दिवस का आयोजन नहीं करेंगे तब तक यह दिवस अपनी दीप्ति से जग को आलोकित नहीं कर पाएगा। विश्व हिंदी दिवस के प्रचार-प्रसार की पृष्ठभूमि में राजभाषा की भूमंडलीय उड़ान भी संलग्न है।


Subscribe to राजभाषा/Rajbhasha